Sat. Nov 28th, 2020

एक पिता की करुणा भरी दास्तान ।नही रुक रहा लव जेहात मजबूर पिता ने अपनी ही बेटी को उतारा मौत के घाट

एक पिता की करुणा भरी  दास्तान ,इज़्ज़त को बहाया अपनी बेटी का खून ।

 

गोपाल भाई मजदूरी करते थे रोज 400 या ₹500 कमाते थे फिर भी उन्होंने अपनी बेटी इला को बहुत लाड प्यार से पाला।

गोपाल भाई ने पुलिस स्टेशन में बयान दिया कि मैं उसे कर्ज लेकर महंगा एंड्रॉयड फोन लाकर दिया, उसके लिए लोन पर एक्टिवा खरीदी मैं अपनी बेटी को किसी भी सुख सुविधा में कमी नहीं होने देता था, भले ही मैं ओवरटाइम मजदूरी करता था लेकिन मेरी बेटी ईला जब एक मुस्लिम फरदीन के प्यार के जाल में फंसी और मेरे और मेरी पत्नी के लाख समझाने पर भी नहीं मानी तो इसी गम में कुछ दिन पहले मेरी पत्नी यानि इला की मां को हार्ट अटैक आया और वह मर गई।

फिर कल जब मेरी बेटी कई घंटों तक घर नहीं आई तब मैंने उसे पूछा कि तुम कहां गई थी तब उसने बेहद बदतमीजी से कहा कि मैं फरदीन के साथ थी और आप चाहे कुछ भी कर लो मैं उसी से निकाह करूंगी वह भी मुसलमान बनकर…. फिर गुस्से में गोपाल भाई ने घर में पड़े कपड़ा धोने वाले डंडे से अपनी बेटी का सर फोड़ कर मार डाला और खुद ही पुलिस स्टेशन में जाकर समर्पण कर दिया।

लॉकअप में भी गोपाल भाई पूरी रात रोते रहे उनका यही कहना था कि मैं अपनी बेटी को बहुत प्यार करता था उसके लिए दुनिया की सारी सुख सुविधाएं औकात नहीं होते हुए भी लाकर दी वह जब कॉलेज जाती थी तो कोई कह नहीं सकता कि वह एक मजदूर की बेटी है लेकिन मेरी बेटी की वजह से मेरी पत्नी गुजर गई फिर भी मेरी बेटी मेरे खानदान का नाम डुबाने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

????????

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *