Thu. Oct 22nd, 2020

किसान की पराली की समस्या को लेकर जिलाधिकारी ने किसानों को दिखाया डेमू कैसे बनती है कंपोस्ट खाद पराली से l

स्लग:जिलाधिकारी ने मुहिम चलाकर किसानों को किया जागरूक,

प्रदेश में लगातार पराली की समस्याओं के चलते किसानों पर मुकदमे दर्ज हो रहे थे. इसके चलते किसान अपनी पराली जलाने से डर रहे थे और सरकार किसानों की समस्याओं को लेकर काफी चिंतित भी थी. सरकार ने किसानों को पराली से खाद बनाने का डेमो दिखाया था.

 

वहीं आज जिले में जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव ने मुहिम चलाकर किसानों के सामने पराली से खाद बनाने का डेमो दिखा कर लोगों को जागरूक किया जिसको लेकर खुद जिला अधिकारी गांव गांव किसानों से मिल रहे है,पराली को गलाने के लिये बनाये गए गड्ढे में खुद जिला अधिकारी उतर गए देखते देखते जिले के सभी अधिकारी गड्डे में उतर गए,फिलहाल किसानों के  अब अच्छे दिन आने वाले है,

बी/ओ:01 ये है पीलीभीत के जिला अधिकारी वैभव श्रीवास्तव, जिले में पराली जलाने से किसानों को रोकने के लिये जिला अधिकारी हर सम्भव प्रयास कर रहे है, पराली को जलने से रोकना  इनके लिये एक चैलेंज बनता जा रहा था इसलिये पराली से जुड़े मामले को लेकर लापरवाही बरतने पर जिला अधिकारी ने 8 लेखपालो को निलम्बित कर दिया,

 

फिर कई पुलिस वालों पर भी कार्यवाही भी की गई इतना ही नही सख्त कार्यवाही करते हो 3 दर्जन किसानों को हवालात भी जाना पड़ा,पराली को जलने से रोकने के लिये जिला अधिकारी ने हर सम्भव प्रयास किये,ये प्रयास अभी तक जारी है,जिला अधिकारी ने भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान दिल्ली द्वारा विकसित कैप्सूल अपने जिले के लिये मंगा लिये है , जिला अधिकारी कैपशूल का प्रदर्शन गांव गांव जा कर खुद कर रहे है,

 

कैपशूल को 5 लीटर के गुड़ में मिला घोल इससे  बने घोल से पराली,गेंहू की नरई,आदि फसल अवशेष को आसानी से गला कर खाद बनाया जा सकता है,इसका पूरा डेमो जिला अधिकारी खुद गांव गांव जा जर रहे है, किसानों को इसका इस्तेमाल करने की कह रहे है,,

 

बी/ओ:02 =जिला अधिकारी  पराली न जले इसके लिये खुद गांव में किसानों से बात कर रहे है,आप को बता दे कि प्रदेश में सबसे ज्यादा पराली जलाने के मामले pilibhit में ही हुए है,क्योकि साटा धान की फसल वोने  के चक्कर मे खेत जल्दी खाली करना होता है इस लिये किसान पराली को जला देता है,लेकिन अब जिला अधिकारी 20 रुपया का कैपशूल गांव गांव बेच रहे है जिससे किसान जागरूक हो और पराली से होने वाले प्रदूषण को रोकने का प्रयास करे,

बी /ओ:03 =लेखपालो का निलंबन,पुलिस पर कार्यवाही, किसानों को जेल बीते कुछ दिनों   से पूरा जिला इन सब मे घिरा हुआ है लेकिन प्रशासन ने  पराली को लेकर हर सम्भव प्रयास किया लेकिन किसानों को प्रदूषण को रोकने के अब खुद पहल करनी पड़ेगी,,

बाइट:- वैभव श्रीवास्तव/जिला अधिकारी पीलीभीत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *