अकाल एकेडमी निरंजन पुर कजरी में हर्षोल्लास से मनाया गया शिक्षक दिवस

अकाल अकेडमी कजरी निरंजनपुर  में धूमधाम से मनाया गया शिक्षक दिवस

 

कजरी निरंजनपुर स्थित अकाल अकेडमी में डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती को शिक्षक दिवस के रूप में हर्षोल्लास  के साथ मनाया गया.इसकी शुरुआत शिक्षक चंद्र प्रकाश  ने डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन द्वारा शिक्षा और शिक्षकों के उत्थान के लिये उनके उल्लेखनीय योगदान की  चर्चा से  की. हेड कोऑर्डिनेटर विजय पाल सिंह ने बताया कि बिना शिक्षकों के योगदान के समाज दिशाहीन और दशाहीन बनकर रह जाता है.शिक्षिका नीलम ने वर्तमान में अध्यापन क्षेत्र की चुनौतियों पर अपने विचार रखे । प्रधानाचार्या सिमरन कौर थिन्द ने कहा कि किसी भी सभ्य समाज का अस्तित्व  शिक्षकों के बिना  सम्भव नहीं हो सकता परन्तु शिक्षकों को भी अपने गरिमा के अनुसार ही

 

आचरण करना चाहिए तभी उनकी सर्वोच्चता बनी रहेगी.उन्होंने कहा कि आज के आधुनिक समय में प्राचीन गुरु शिष्य परम्परा की आवश्यकता है तभी छात्रों का सर्वांगीण विकास हो सकता है.इस मौके पर छात्र छात्राओं द्वारा  अध्यापकों के मनोरंजन के लिये बूझो तो जाने,मोनो एक्टिंग, आओ पंजा लड़ाये, गुब्बारे फोड़ो, म्यूजिकल चेयर आदि प्रतियोगिताओं का आयोजन  भी  किया ।

शिक्षकों की सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता में गुरजिंदर सिंह एवं अमित पटेल प्रथम , अमित वर्मा एवम नागेंद्र शर्मा द्वतीय स्थान पर रहे । प्रधानाचार्या सिमरन कौर थिन्द ने सभी शिक्षकों को शुभकामनाएं दी और कहा कि शिक्षक अपनी गरिमा के अनुकूल आचरण करें तभी उनको समाज मे आदर मिलेगा । कार्यक्रम का संचालन कक्षा 12 के छात्र -छात्राओं ने किया ।

इस मौके पर  हेड कोऑर्डिनेटर विजय पाल सिंह,कंचन  मिश्रा, कनका त्रिपाठी, सी पी त्रिपाठी, अवतार सिंह, मुखतार सिंह, हरदीप सिंह,जोगा सिंह, अमित कुमार, विमल कुमार,कमलराज,सुनिमोल, रणजीत कौर,फिलिप जेवियर, सुखवन्त कौर, जगवीर सिंह ,कुलविन्दर कौर, प्रीति भाटिया,जसवीर कौर,अंशुल,कुलविन्दर, आशा, सुखजीत शमन्दीप, जगजीत सिंह, संदीप कुमार, जसविंदर सिंह,गुरजिंदर सिंह, राजिंदर कौर, छवि, विजयलक्ष्मी, जसप्रीत, आशीष पांडेय,नवनीत कौर आदि मौजूद रहे.

अकाल अकेडमी कजरी निरंजनपुर  में धूमधाम से मनाया गया शिक्षक दिवस

कजरी निरंजनपुर स्थित अकाल अकेडमी में डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती को शिक्षक दिवस के रूप में हर्षोल्लास  के साथ मनाया गया.इसकी शुरुआत शिक्षक चंद्र प्रकाश ने डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन द्वारा शिक्षा और शिक्षकों के उत्थान के लिये उनके उल्लेखनीय योगदान की  चर्चा से  की. हेड कोऑर्डिनेटर विजय पाल सिंह ने बताया कि बिना शिक्षकों के योगदान के समाज दिशाहीन और दशाहीन बनकर रह जाता है.शिक्षिका नीलम ने वर्तमान में अध्यापन क्षेत्र की चुनौतियों पर अपने विचार रखे । प्रधानाचार्या सिमरन कौर थिन्द ने कहा कि किसी भी सभ्य समाज का अस्तित्व  शिक्षकों के बिना  सम्भव नहीं हो सकता परन्तु शिक्षकों को भी अपने गरिमा के अनुसार ही आचरण करना चाहिए तभी उनकी सर्वोच्चता बनी रहेगी.उन्होंने कहा कि आज के आधुनिक समय में प्राचीन गुरु शिष्य परम्परा की आवश्यकता है तभी छात्रों का सर्वांगीण विकास हो सकता है.इस मौके पर छात्र छात्राओं द्वारा  अध्यापकों के मनोरंजन के लिये बूझो तो जाने,मोनो एक्टिंग, आओ पंजा लड़ाये, गुब्बारे फोड़ो, म्यूजिकल चेयर आदि प्रतियोगिताओं का आयोजन  भी  किया । शिक्षकों की सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता में गुरजिंदर सिंह एवं अमित पटेल प्रथम , अमित वर्मा एवम नागेंद्र शर्मा द्वतीय स्थान पर रहे । प्रधानाचार्या सिमरन कौर थिन्द ने सभी शिक्षकों को शुभकामनाएं दी और कहा कि शिक्षक अपनी गरिमा के अनुकूल आचरण करें तभी उनको समाज मे आदर मिलेगा । कार्यक्रम का संचालन कक्षा 12 के छात्र -छात्राओं ने किया । इस मौके पर हेड कोऑर्डिनेटर विजय पाल सिंह,कंचन मिश्रा, कनका त्रिपाठी, सी पी त्रिपाठी, अवतार सिंह, मुखतार सिंह, हरदीप सिंह,जोगा सिंह, अमित कुमार, विमल कुमार,कमलराज,सुनिमोल, रणजीत कौर,फिलिप जेवियर, सुखवन्त कौर, जगवीर सिंह ,कुलविन्दर कौर, प्रीति भाटिया,जसवीर कौर,अंशुल,कुलविन्दर, आशा, सुखजीत शमन्दीप, जगजीत सिंह, संदीप कुमार, जसविंदर सिंह,गुरजिंदर सिंह, राजिंदर कौर, छवि, विजयलक्ष्मी, जसप्रीत, आशीष पांडेय,नवनीत कौर आदि मौजूद रहे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *