Thu. Jan 28th, 2021

आखिर बाघ को 10 पर हमला करना पड़ा महंगा, लग भग 2 बजे उपचार न होने के कारण बाघ ने अंतिम शांस ली

रात को दो बजते बजते थम गई घायल बाघ की साँसें, समय से उपचार न मिलने से हुई मौत

 

पूरनपुर

घुंघचाई। बाघ के आतंक का हुआ अंत। रात में करीब 2: 00 बजे हुई बाघ की मौत। पीएम के लिए विभागीय टीम लेकर रवाना हुई। बहुत हद तक विभाग ही रहा जिम्मेदार। लेटलतीफी के कारण घायल बाघ को समय रहते नहीं मिल सका उपचार। अगर समय से उपचार मिलता तो बच जातीजान। बुधवार करीब 4 बजे मजदूरों पर हमले के बाद हुआ था मानव वन्य जीव संघर्ष। पौन दर्जन लोगों पर हमला के बाद ग्रामीणों ने बाघ को पीटा था। पीटीआर की टीम ने शाम को बाघ को एक तरफ जाल लगाकर जंगल तरफ खदेड़ने का प्रयास किया गया पर बाघ चल नही पाया। उसे ट्रेंकुलाइज करके उपचार देने की जरूरत थी जो नही दिया जा सका।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

*पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा थाना बीसलपुर पर किया गया अर्दली रूम*                        आज दिनांक 16-01-21 को पुलिस अधीक्षक पीलीभीत श्री जयप्रकाश महोदय द्वारा थाना बीसलपुर पीलीभीत पर अर्दली रूम किया गया जिसमें अपराध नियंत्रण व विवेचनाओं की जानकारी ली। सर्वप्रथम महोदय ने महिला हेल्प डेस्क कार्यालय, थाना कार्यालय, सीसीटीएनएस कार्यालय, बैरिक, हवालात, मैस एवं थाना परिसर का भी निरीक्षण किया गया तथा साफ सफाई रखने आदि आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए, इसके उपरांत पुलिस अधीक्षक महोदय ने कोरोना वायरस के दृष्टिगत सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करते हुये एक-एक कर सभी विवेचकों से विवेचनाओं की जानकारी ली और सभी विवेचकों से लंबित विवेचनाओं को शीघ्र निस्तारित करने एवं वांछित अपराधियों की शीघ्र गिरफ्तारी के निर्देश दिये।