Thu. Oct 29th, 2020

ग्यारह हजार की लाइन टूटने का सिलसिला जारी है प्रशासन मौन हो सकता है कि प्रशासन बडी घटना के इंतिज़ार मे हो एक महीने में पाँच बार टूट चूंकि है ग्यारह हजार की लाइन

ब्रेकिंग
ग्यारह हजार की लाइन टूटने का सिलसिला जारी है प्रशासन मौन हो सकता है कि प्रशासन बडी घटना के इंतिज़ार मे हो एक महीने में पाँच बार टूट चुुकी है ग्यारह हजार की लाइ

पीलीभीत पूरनपुर मोहल्ला रजागंज देहात में आज एक बार फिर ग्यारह हजार की लाइन में फालट होने पर ग्यारह हजार लाइन का तार टूट मेरे घर मे आ गिरा लगातार तार तूटने सिलसिला जारी अभी दो दिन पूर्व पूरनपुर मोहल्ला नूरी नगर में भी चार घरो की छतो पर ग्यारह हजार की लाइन का तार तूट कर गिरा था वही छतो पर महिलाएं और बच्चे लेटे थे ईश्वर का शुक्र की महिलाएं अपने बच्चों को लेकर नीचे गई और कुछ महिला छतो पर ही थी पर तार की उछाल से तार थोडा दूर जाकर छत पर गिरा था अन्यथा एक बडी घटना घट सकती

यह लाइन मकानों के ऊपर से निकली जिसकी लगातार लिखित शिकायते करने के बाद भी कौई बदलाव नहीं हो सका इस लाइन के तार पुराने होने की बजहे से लगातार तार टूट रहे पर जिले के अधिकारी मौन है

और आज एक बार फिर मेरे गेरिज मे ग्यारह हजार की लाइन का तार टूट कर आ गिरा ईश्वर का शुक्र की गेरिज मे गाडी नही थी और छोटे बच्चे धूप की बजह से गेरिज मे ही खेल रहे थे चिंगारी देख सभी बच्चे चीख कर घर मे जा घुसे आज फिर एक बडी घटना घट सकती थी और आज मुम्बई सुरत के जैसे घटना आज पूरनपुर हो सकती थी लगतार ग्यारह हजार की लाइन टूट कर गिरने का सिलसिला जारी है अधिकारी मौन है दस मीटर नया तार बदलने के लिए हमने उपजिलाधिकारी महोदय पूरनपुर और विधुत विभाग एसडीओ से बोला पर अफसोस विधुत विभाग के पास दस मीटर नया तार भी ना मिल सका पूरनपुर इतना बड़ा विधुत हेडिल होने के बाद भी इस्टाक मे उनके पास दस मीटर भी तार नहीं कितने अफशोस की बात है
भाजपा सरकार जो कि भ्रष्टाचार खत्म करने की बात करती पर वही विधुत विभाग लगातार सरकार के मनसूबों पर पानी फेरती नजर आ रही अगर इसी तरहे विधुत लाइन तूटने का सिलसिला चलता रहा तो जो मुम्बई सूरत में घटना घटी वहीं घटना याह भी घट सकती है और उसके बाद सिर्फ अफसोस किया जा सकता और कुछ नहीं पर उस घटना का जिम्मा याह के अधिकारियों का होगा जो जान बूझकर घटना का इंतिज़ार कर रहे है

पत्रकार नाजिम खान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *