Thu. Oct 22nd, 2020

नरई जलाने से गन्ने के खेत में लगी आग, तहसीलदार के आदेश पर दो के खिलाफ मुकदमा, 81 को नोटिस

पीलीभीत: नरई जलाने को लेकर प्रशासन लगातार कार्यवाही कर रहा है। इसके बावजूद इस पर रोकथाम नहीं लग पा रही है। कलीनगर तहसील क्षेत्र में नरई जलाने पर दो के खिलाफ तहसीलदार के आदेश पर मुकदमा दर्ज कराया गया है। वहीं 81 लोगों को चिन्हित कर नोटिस जारी किए गए हैं। इससे हड़कंप मचा हुआ है।

एक तरफ जहां नरई जलाने के बाद क्षेत्र में लगातार आग लगने से लोगों को परेशानी उठानी पड़ रही है। नरई जलाने पर बना कानून कानून को लोग दरकिनार कर इसका उल्लंघन कर रहे हैं। पिछले दिनों नरई जलाने से जिलेभर में सैकड़ों एकड़ गेहूं की फसल जलकर राख हो चुकी है। वहीं कई ग्रामीणों के घर भी जल चुके हैं। कलीनगर तहसील क्षेत्र के गांव पिपरिया संतोष निवासी अयूब शाह पुत्र जमाल शाह ने गेहूं कटने के बाद खेत में खड़ी नरई में आग लगा दी। नरई में आग लगने से गांव के ही अर्जुन यादव के खेत में खड़ा 3 बीघा गन्ना जल गया। इसको लेकर अर्जुन ने आरोपी जमाल शाह के खिलाफ माधोटांडा थाना में मुकदमा दर्ज कराया है। इसके अलावा मैनाकोट निवासी तुर्सी पुत्र सोबरन ने 28 अप्रैल को अपने खेत में खड़ी नराई में भी आग लगा दी थी। इसपर कलीनगर तहसीलदार विजय कुमार त्रिवेदी के आदेश पर लेखपाल शेर अली ने मौके पर पहुंचकर इसकी जांच पड़ताल की तो आरोपी द्वारा आग लगाने की बात सत्य साबित हुई। इस पर लेखपाल ने माधोटांडा थाना पहुंचकर आरोपी तुर्सी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। इसके अलावा नरई जलाने वाले 81 लोगों को कलीनगर तहसील की ओर से नोटिस जारी किए गए हैं। इसकी निहित धनराशि 200000 बताई जा रही है। तहसीलदार विजय कुमार त्रिवेदी ने बताया नरई जलाने पर पूर्ण पाबंदी है। यदि खेत में खड़ी नरई जलाई जाती है तो आरोपी के खिलाफ निश्चित रूप से कार्यवाही होगी। इसको लेकर तहसील क्षेत्र के लेखपालों को लगाया गया है। आरोपियों पर लगातार कार्रवाई भी की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *